फरीदाबाद : आज ग्रेटर फरीदाबाद की तिलपत व मथुरा रोड के बिजली दफ्तर प्राँगण पर अपने महासचिव का सम्मान स्वागत समाहरोह का कार्यक्रम किया गया । जिसमें चारों यूनिटों के प्रधान सचिव सहित काफी संख्या में सर्कल फरीदाबाद के कर्मचारी मौजूद रहे । हरियाणा प्रदेश के प्रस्तावित द्विवार्षिक कर्मचारी चुनावों में लगभग एक दशक के लम्बे अन्तराल के बाद जहाँ पिछले राज्य कमेटी के चुनावों में कुछ ही आंकड़ों से फरीदाबाद सर्कल रह गया था ।

जिसके बाद अब एक बार फिर से फरीदाबाद सर्कल के कर्मचारियों ने हुँकार भरी और इसी हुँकार के बलबूते जीत का सेहरा प्रदेश महासचिव सुनील खटाना को हरियाणा स्टेट इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड वर्कर्स यूनियन के महासचिव पद के रूप में मिला है । हरियाणा प्रदेश के तमाम कर्मचारियों व फरीदाबाद सर्कल के कर्मचारियों ने अपनी एकता और मजबूती का ऐसा अनूठा दायित्व निभाया जिसमे फिलहाल के प्रदेशस्तरीय कर्मचारी प्रतिनिधी सम्मेलन सहित चुनाव यमुना नगर के रादौर जिले की शहीद उधम सिंह काम्बोज धर्मशाला में 01 व 02 नवम्बर को हुआ ।

इस बार प्रदेश कार्यकारिणी के सभी चुनावी आँकड़ों को धराशाई करते हुए एक बार फिर से फरीदाबाद सर्कल की झोली में यह प्रदेश महासचिव की सीट राज्य के सभी कर्मचारियों को मेहनत बनकर मिली है । हरियाणा प्रदेश के कर्मचारियों को अपने वक्तव्य में महासचिव सुनील खटाना ने बताया कि कर्मचारियों के हकों की आवाज को सरकार अथवा प्रशासनिक व शासनिक आधिकारिक दवारा दबाया जाना बिल्कुल बर्दाश्त नही किया जायेगा । हालिया लोहारू के बीजेपी विधायक जेपी दलाल द्वारा कथित बात का वीडियो जो मीडिया की सुर्खियों व अखबारों में पड़ने को मिला है । जिसमे वह कर्मचारियों को धमका रहे हैं । यह लोकतन्त्र के खिलाफ है । कर्मचारियों को अपना हक है कि वो कहाँ वोट करें और कहाँ ना करें । यह घोर निन्दनीय है ।

ऐसे भाजपा नेताओं को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा देना चाहिये जो कर्मचारियों और आमजन के बीच विवाद कराने वाला उपद्रव खुलेआम फैला रहे हैं । आगे भविष्य में ऐसे नेताओं को जनता फिर से सबक सिखायेगी जैसा कि अब सिखाया है । उन्होंने कहा कि जायज माँगों के लिये कर्मचारी पहले भी संघर्षरत रहे हैं और आगे भी अपनी आवाज को बुलन्द कर लड़ाई लड़ेंगे, प्रदेश के लाखों कर्मचारियों की माँगों को पूरा कराना मेरी प्रथम प्राथमिकता रहेगी जिसके लिये एचएसईबी वर्कर यूनियन का एक एक जागरूक कर्मचारी सिपाही प्रतिबद्ध है । आउटसोर्स पर लगे कर्मियों को स्थाई रोज़गार के पद नियुक्ति कराना अहम डिमांड्स होगी ।

आज प्रदेश में कर्मचारियों के अभाव को देखते हुए एक कर्मचारी पर आठ आठ कर्मचारी के काम का अतिरिक्त बोझ है इसके लिये भी हमने आवाज उठानी है और बोर्डों व निगमों में आउटसोर्सिंग की प्रथा पर अंकुश लगाना भी अहम मुद्दा होगा । कर्मचारी नेता प्रधान लेखराज चौधरी, सुनील चौहान, विनोद शर्मा व कर्मवीर यादवने बताया कि अपनी बेतुका बयानबाजी से जनता को गुमराह करने वाले ऐसे नेताओं से सावधान होने की जरूरत है । जनता ने इसी बेतुकी बयानबाजी के विपरीत भाजपा के नेताओं को झूठे जुमलों के चलते नकारा है । यदि अब भी यह गढबन्दन कि सरकार कर्मचारियों के हितों को दरकिनार करती है । तो निश्चित है भविष्य में कर्मचारी फिर से आंदोलित होगा । इस अवसर पर ठाकुर राजराम, सुरेन्द्र, राजबीर, मुकेश, विजय, जिलेसिंह, माँगेराम, धीरज, प्रेम, बीरसिंह रावत, हुकुमसिंह, शेरसिंह, बृजपाल, मदनगोपाल, जिनेश, श्रवण, वीरसिंह, योगेश, सियाराम, चंद्रजीत, अजय, राजेश आदि सैंकड़ों कर्मचारी इस स्वागत समाहरोह में उपस्तिथ रहे ।